डिजिटल मार्केटिंग क्या है? एक सम्पूर्ण मार्गदर्शिका जाने सब कुछ (Digital Marketing in Hindi)

डिजिटल मार्केटिंग क्या है हिंदी में? – आज के दौर में सबकुछ ऑनलाइन हो गया है। इंटरनेट ने हमारी जिंदगी को बेहतर बना दिया है और इसके जरिए हम फोन या लैपटॉप के जरिए ही कई सुविधाओं का आनंद ले सकते हैं।

हम इंटरनेट के जरिए ऑनलाइन शॉपिंग, टिकट बुकिंग, रिचार्ज, बिल पेमेंट, ऑनलाइन ट्रांजेक्शन आदि कई काम कर सकते हैं। इंटरनेट के प्रति यूजर्स के इस रुझान के चलते बिजनेस डिजिटल मार्केटिंग को अपना रहे हैं।

अगर मार्केट के आंकड़ों पर नजर डालें तो करीब 80% शॉपर्स कोई भी प्रोडक्ट या सर्विस खरीदने से पहले ऑनलाइन रिसर्च करते हैं। ऐसे में डिजिटल मार्केटिंग किसी भी कंपनी या बिजनेस के लिए अहम हो जाती है।

डिजिटल मार्केटिंग का मतलब क्या है?

अपने उत्पादों और सेवाओं को डिजिटल माध्यम से बेचने की प्रक्रिया को डिजिटल मार्केटिंग कहते हैं। डिजिटल मार्केटिंग इंटरनेट के माध्यम से की जाती है। हम इंटरनेट, कंप्यूटर, मोबाइल फोन, लैपटॉप, वेबसाइट विज्ञापन या किसी अन्य एप्लीकेशन के माध्यम से इससे जुड़ सकते हैं।

1980 के दशक में पहली बार डिजिटल मार्केट स्थापित करने के लिए कुछ प्रयास किए गए लेकिन यह संभव नहीं हो पाया। इसका नाम और उपयोग आखिरकार 1990 के दशक में शुरू हुआ।

डिजिटल मार्केटिंग नए ग्राहकों तक पहुँचने का एक आसान तरीका है। यह मार्केटिंग गतिविधियों को पूरा करता है। इसे ऑनलाइन मार्केटिंग भी कहा जा सकता है। डिजिटल विपणन कम समय में अधिक लोगों तक पहुँचकर मार्केटिंग करना है। यह एक विकासशील क्षेत्र है जो तकनीक विकसित करता है।

डिजिटल मार्केटिंग के माध्यम से उत्पादक अपने ग्राहकों तक पहुंचने के साथ-साथ उनकी गतिविधियों और उनकी जरूरतों पर भी नजर रख सकता है। ग्राहकों का रुझान क्या है, ग्राहक क्या चाहता है, इन सभी पर डिजिटल विपणन के माध्यम से चर्चा की जा सकती है। सरल शब्दों में कहें तो डिजिटल मार्केटिंग डिजिटल तकनीक के माध्यम से ग्राहकों तक पहुंचने का एक माध्यम है।

डिजिटल मार्केटिंग क्यों जरूरी है?

यह आधुनिकता का युग है और इस आधुनिक समय में हर चीज का आधुनिकीकरण हो चुका है। इसी क्रम में इंटरनेट भी इसी आधुनिकता का एक हिस्सा है जो जंगल की आग की तरह हर जगह फैल रहा है। डिजिटल मार्केटिंग इंटरनेट के जरिए काम करने में सक्षम है।

आज का समाज समय की कमी से जूझ रहा है, ऐसे में डिजिटल मार्केटिंग जरूरी हो गई है। हर व्यक्ति इंटरनेट से जुड़ा हुआ है और हर जगह इसका आसानी से इस्तेमाल कर सकता है। अगर आप किसी से मिलने के लिए कहेंगे तो वह कहेगा कि उसके पास समय नहीं है, लेकिन सोशल साइट्स पर आपसे बात करने में उसे कोई दिक्कत नहीं होगी। इन सभी चीजों को देखते हुए डिजिटल मार्केटिंग इस युग में अपनी जगह बना रही है।

लोग अपनी सुविधा के अनुसार इंटरनेट के जरिए आसानी से अपना पसंदीदा और जरूरी सामान मंगवा सकते हैं। अब लोग बाजार जाने से बचते हैं, ऐसे में डिजिटल मार्केटिंग व्यवसाय को अपने उत्पाद और सेवाओं को लोगों तक पहुंचाने में मदद करती है। डिजिटल मार्केटिंग कम समय में एक ही उत्पाद के कई प्रकार दिखा सकती है और उपभोक्ता तुरंत पसंद आने वाले उत्पाद को खरीद सकता है। इस माध्यम से उपभोक्ता को बाजार जाने, उत्पाद चुनने और वापस आने में लगने वाले समय की बचत होती है।

वर्तमान समय में यह आवश्यक हो गया है। व्यवसायी को भी व्यवसाय में सहायता मिल रही है। वह कम समय में अधिक लोगों से जुड़ भी सकता है और अपने उत्पाद की विशेषताओं को उपभोक्ता तक पहुंचा सकता है।

वर्तमान समय में डिजिटल मार्केटिंग की मांग

परिवर्तन जीवन का नियम है, यह तो आप सभी जानते ही हैं। पहले के समय और आज के समय में जीवन में कितना परिवर्तन आया है और आज इंटरनेट का युग है। हर जाति के लोग आज इंटरनेट से जुड़े हुए हैं, इन सबके कारण सभी लोगों को एक जगह इकट्ठा करना आसान हो गया है जो पहले के समय में संभव नहीं था। इंटरनेट के माध्यम से हम सभी व्यवसायी और ग्राहकों के बीच संबंध स्थापित कर सकते हैं।

वर्तमान समय में डिजिटल मार्केटिंग की मांग काफी प्रबल रूप में देखी जा रही है। व्यवसायी अपने द्वारा बनाए जा रहे सामान को आसानी से ग्राहक तक पहुंचा पा रहा है। इससे डिजिटल व्यापार को बढ़ावा मिल रहा है।

पहले विज्ञापन का सहारा लेना पड़ता था। ग्राहक देखता था, फिर पसंद करता था, फिर खरीदता था। लेकिन अब सामान सीधे उपभोक्ता तक भेजा जा सकता है। हर व्यक्ति गूगल, फेसबुक, यूट्यूब आदि का इस्तेमाल कर रहा है, जिसके जरिए व्यापारी अपना उत्पाद ग्राहक को दिखाता है। यह व्यापार व्यापारी और उपभोक्ता सभी की पहुंच में है।

हर व्यक्ति को हर उपयोगी चीज बिना किसी मेहनत के आसानी से मिल जाती है। व्यापारी को भी अखबार, पोस्टर या विज्ञापन का सहारा लेने के बारे में सोचने की जरूरत नहीं है। सभी की सुविधा को देखते हुए इसकी मांग है। लोगों का भरोसा भी डिजिटल बाजार की तरफ बढ़ रहा है। यह व्यापारी के लिए खुशी की बात है। एक कहावत है “जो दिखता है वही बिकता है” – डिजिटल बाजार इसका एक अच्छा उदाहरण है।

डिजिटल मार्केटिंग के प्रकार

सबसे पहले आपको बता दें कि डिजिटल मार्केटिंग करने का एकमात्र साधन इंटरनेट है। हम इंटरनेट पर अलग-अलग वेबसाइट के जरिए डिजिटल मार्केटिंग कर सकते हैं। हम आपको इसके कुछ हम आपको इसके प्रकारों के बारे में बताने जा रहे हैं –

(i) सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन या SEO

यह एक तकनीकी माध्यम है जो आपकी वेबसाइट को सर्च इंजन रिजल्ट पर शीर्ष स्थान दिलाता है, जिससे दर्शकों की संख्या बढ़ती है। इसके लिए हमें अपनी वेबसाइट को कीवर्ड और SEO दिशा-निर्देशों के अनुसार बनाना होता है।

(ii) सोशल मीडिया

सोशल मीडिया कई वेबसाइट से मिलकर बना है – जैसे फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, आदि। सोशल मीडिया के ज़रिए कोई भी व्यक्ति अपने विचार हज़ारों लोगों के सामने रख सकता है। सोशल मीडिया से आप भली-भाँति परिचित हैं। जब हम इस साइट को देखते हैं, तो हमें इस पर कुछ अंतराल पर विज्ञापन दिखाई देते हैं, यह विज्ञापन के लिए एक प्रभावी और कुशल साधन है।

(iii) ईमेल मार्केटिंग

ईमेल मार्केटिंग किसी भी कंपनी द्वारा ईमेल के ज़रिए उत्पादों की डिलीवरी है। ईमेल मार्केटिंग हर कंपनी के लिए हर तरह से महत्वपूर्ण है क्योंकि कोई भी कंपनी समय पर ग्राहकों को नए ऑफ़र और छूट देती है, जिसके लिए ईमेल मार्केटिंग एक आसान तरीका है।

(iv) यूट्यूब चैनल

यह सोशल मीडिया का एक ऐसा माध्यम है जिसके ज़रिए उत्पादकों को अपने उत्पाद सीधे लोगों तक पहुँचाने होते हैं। लोग इस पर अपनी प्रतिक्रिया भी व्यक्त कर सकते हैं। यह वह माध्यम है जहाँ बहुत से लोगों की भीड़ होती है या यूँ कहें कि यूट्यूब पर बहुत ज़्यादा संख्या में यूज़र/व्यूअर होते हैं। वीडियो बनाकर लोगों को अपना उत्पाद दिखाने का यह एक आसान और लोकप्रिय माध्यम है।

(v) एफ़िलिएट मार्केटिंग

किसी वेबसाइट, ब्लॉग या लिंक के ज़रिए उत्पादों के विज्ञापन के लिए मिलने वाले पारिश्रमिक को एफ़िलिएट मार्केटिंग कहते हैं। इसके तहत आप अपना खुद का लिंक बनाते हैं और उस लिंक पर अपना उत्पाद डालते हैं। जब ग्राहक उस लिंक पर क्लिक करके आपका उत्पाद खरीदता है, तो आपको इसके पैसे मिलते हैं।

एफिलिएट मार्केटिंग क्या है? जानिए एफिलिएट मार्केटिंग से कैसे आप पैसे कमा सकते है।

(vi) पे पर क्लिक एडवरटाइजिंग या पीपीसी मार्केटिंग

जिस विज्ञापन के लिए आपको पैसे देने होते हैं, उसे पे पर क्लिक एडवरटाइजिंग कहते हैं। जैसा कि इसके नाम से ही स्पष्ट है, इस पर क्लिक करते ही पैसे कट जाते हैं। यह सभी तरह के विज्ञापन के लिए है। ये विज्ञापन बीच-बीच में आते रहते हैं। अगर कोई इन विज्ञापनों को देखता है, तो पैसे कट जाते हैं। यह भी एक तरह की डिजिटल मार्केटिंग है।

(vii) ऐप्स मार्केटिंग

इंटरनेट पर अलग-अलग ऐप बनाकर लोगों तक पहुंचाना और उस पर अपने उत्पाद का प्रचार करना ऐप्स मार्केटिंग कहलाता है। यह डिजिटल मार्केटिंग का बहुत अच्छा तरीका है। आजकल बड़ी संख्या में लोग स्मार्ट फोन का इस्तेमाल कर रहे हैं। बड़ी-बड़ी कंपनियां अपने ऐप बनाकर लोगों तक पहुंचाती हैं।

डिजिटल मार्केटिंग के उपयोग

हम आपको डिजिटल मार्केटिंग की उपयोगिता के बारे में बता रहे हैं –

  1. आप अपनी वेबसाइट पर ब्रोशर बनाकर उस पर अपने उत्पाद का विज्ञापन लोगों के लेटर-बॉक्स में भेज सकते हैं। आप यह भी पता लगा सकते हैं कि कितने लोग आपको देख रहे हैं।
  2. वेबसाइट ट्रैफ़िक – सबसे पहले आपको यह पता होना चाहिए कि किस वेबसाइट पर सबसे ज़्यादा विज़िटर आते हैं, फिर उस वेबसाइट पर अपना विज्ञापन डालें ताकि ज़्यादा से ज़्यादा लोग आपको देख सकें।
  3. एट्रिब्यूशन मॉडलिंग – इसके माध्यम से हम यह पता लगा सकते हैं कि आजकल लोगों की किस उत्पाद में रुचि है या वे कौन से विज्ञापन देख रहे हैं। इसके लिए एक विशेष उपकरण का उपयोग करना होगा जो एक विशेष तकनीक के माध्यम से किया जा सकता है और हम अपने उपभोक्ताओं की गतिविधियों यानी उनकी रुचि पर नज़र रख सकते हैं।
    आप अपने उपभोक्ताओं से कैसे संपर्क बना रहे हैं यह एक महत्वपूर्ण विषय है। आपको उनकी ज़रूरतों के साथ-साथ उनकी पसंद पर भी नज़र रखनी चाहिए, ऐसा करने से व्यापार में वृद्धि हो सकती है।
Digital Marketing

यह भी बहुत ज़रूरी है कि वे आप पर भरोसा करें, ताकि विज्ञापन देखने के बाद वे आपका उत्पाद खरीदने में संकोच न करें और तुरंत खरीद लें। आपको उनका भरोसा दिलाना होगा। ग्राहक को भरोसा दिलाना आपकी ज़िम्मेदारी है। अगर किसी को उत्पाद पसंद नहीं आता है तो वह उसे बदलने के लिए अपनी बात आप तक पहुँचा सकता है, इसके लिए यह ईबुक आपकी मदद कर सकती है।

निष्कर्ष

डिजिटल बाजार मार्केटिंग (कंपनी) के विस्तार के लिए एक चैनल के रूप में उभरा है। इसका उपयोग सभी के लिए फायदेमंद है। डिजिटल बाजार के माध्यम से हम व्यवसायी और उपभोक्ता के बीच एक बेहतरीन तालमेल स्थापित करने में सक्षम हैं। आधुनिकता की एक विशिष्ट अभिव्यक्ति डिजिटल मार्केटिंग है।

उम्मीद है कि आप भी डिजिटल मार्केटिंग से लाभान्वित होंगे।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQ)

1. डिजिटल मार्केटिंग क्या है?

डिजिटल मार्केटिंग क्या है? यह एक मार्केटिंग पद्धति है जो इंटरनेट और ऑनलाइन-आधारित डिजिटल तकनीकों का उपयोग करके उत्पादों और सेवाओं को बढ़ावा देती है।

2. डिजिटल मार्केटिंग के प्रमुख तत्व क्या हैं?

डिजिटल मार्केटिंग के प्रमुख तत्वों में सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन (SEO), सोशल मीडिया मार्केटिंग, कंटेंट मार्केटिंग, ईमेल मार्केटिंग और पे-पर-क्लिक (PPC) विज्ञापन शामिल हैं।

3. डिजिटल मार्केटिंग कैसे काम करती है?

डिजिटल बाजार लक्षित दर्शकों तक पहुँचने और उन्हें ग्राहकों में बदलने के लिए सर्च इंजन, सोशल मीडिया, ईमेल और वेबसाइट जैसे विभिन्न ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म और चैनलों का उपयोग करती है।

4. डिजिटल मार्केटिंग के क्या लाभ हैं?

डिजिटल मार्केटिंग के कई लाभ हैं, जिनमें व्यापक पहुँच, प्रभावी लक्ष्यीकरण, मापने योग्य परिणाम और लागत प्रभावी समाधान शामिल हैं।

5. डिजिटल मार्केटिंग सीखने के लिए सबसे अच्छे संसाधन कौन से हैं?

डिजिटल मार्केटिंग सीखने के लिए कई अच्छे ऑनलाइन संसाधन हैं, जैसे कि Google का डिजिटल गैराज, हबस्पॉट अकादमी, कोर्सेरा और लिंक्डइन लर्निंग।

6. क्या डिजिटल मार्केटिंग से किसी व्यवसाय को लाभ होता है?

हां, डिजिटल मार्केटिंग से व्यवसाय को बहुत लाभ होता है। यह ब्रांड की दृश्यता बढ़ाने, अधिक ग्राहकों को आकर्षित करने और बिक्री बढ़ाने में मदद करता है।

7. डिजिटल मार्केटिंग के लिए आवश्यक उपकरण क्या हैं?

डिजिटल मार्केटिंग के लिए कुछ आवश्यक उपकरणों में Google Analytics, SEMrush, Hootsuite, MailChimp और Canva शामिल हैं।

8. क्या छोटे व्यवसाय भी डिजिटल मार्केटिंग का उपयोग कर सकते हैं?

हां, छोटे व्यवसाय भी डिजिटल मार्केटिंग का उपयोग कर सकते हैं और इससे बहुत लाभ उठा सकते हैं। डिजिटल मार्केटिंग छोटे व्यवसायों को व्यापक दर्शकों तक पहुंचने और प्रतिस्पर्धी बने रहने में मदद करती है।

9. डिजिटल मार्केटिंग में करियर कैसे शुरू करें?

डिजिटल मार्केटिंग में करियर शुरू करने के लिए आपको डिजिटल मार्केटिंग के विभिन्न पहलुओं को सीखना होगा, प्रमाणन प्राप्त करना होगा और व्यावहारिक अनुभव प्राप्त करने के लिए इंटर्नशिप या फ्रीलांस प्रोजेक्ट करना होगा।

10. डिजिटल मार्केटिंग में उपलब्ध करियर विकल्प क्या हैं?

डिजिटल मार्केटिंग में कई करियर विकल्प उपलब्ध हैं, जैसे SEO विशेषज्ञ, कंटेंट मार्केटर, सोशल मीडिया मैनेजर, PPC विशेषज्ञ और डिजिटल मार्केटिंग विश्लेषक।

Leave a comment